Thursday, July 29, 2010

कुमार गन्धर्व के लिये अशोक वाजपेयी की कविताएँ



















|| बहुरि अकेला ||

अन्तराम्भ
समय से बाहर
शब्दों दुखों घावों के शिल्प से
जल जो नदी है
स्मृति में एकत्र
जासूस की तरह जीवन
यह जो
ढुलकने से पहले
मरने के पहले कितने स्थगन
थोड़ा-थोड़ा हमें भी
रंग वही सूर्यास्त उदय का
विदा का कोई समय नहीं
किए न किए का अरण्य
कहीं नहीं के घर में
घर और घर नहीं
फहा फाहा उड़ते समय से
किस शैव चट्टान पर
प्रार्थना में कोई शब्द नहीं
होना पृथ्वी न होना आकाश
असंख्य में से सिर्फ़ एक
अंत का समय आरम्भ का समय



















|| जल जो नदी है ||

नदी बिलकुल शान्त कभी नहीं हो पाती चाहकर भी
कोई न कोई आवाज़ या सन्नाटा गूँजता हुआ सा
उसके तट पर उसके मझधार में किसी चट्टान से
नीरव टकराते उसके जल में |
नदी बहती है धरातल पर सूखकर रेत के नीचे थमकर
प्रतिपल जाती हहुई अपने विलय की ओर
फिर भी उच्छल
धूप अँधेरे लू-लपट
सुख की झूलती हुई डालों
दुःख के खिसकते-ढहते ढूहों से
हर सर्वनाम को लीलता हुआ
आदि और अंत से उदासीन
सिर्फ़ बहता चलता है जल
जिसे शायद पता ही नहीं चलता कि वह नदी है |














|| थोड़ा-थोड़ा हमें भी ||

जैसे सूर्योदय बुलाता है
कलरव ओस हलकी सी ठण्ड
उषा की केलि को
वैसे ही पुकारती है
एक ही मृत्यु
दूसरे के जन्म को-
तिल-सकट कच्चे दूध में पड़े तिल
माघ की ठण्ड में हुए शुभारम्भ को-
एक जन्म ही नहीं फुँकता
एक जीवन की ही नहीं होती अन्त्येष्टि
कुछ और जन्म भी झुलसते हैं
कुछ और जीवन भी सरकते हैं
अंत कि ओर-
जो होने न होने को गाता है
उसी का होना अन्तत: मौन है
उसी का न होना शान्ति |
हम अपनी चुप्पी के पार
एक पुकार सुनते हैं
और अनसुनी करते हैं |
जो जाता है
थोड़ा-थोड़ा हमें भी ले जाता है
और इसलिए कभी
पूरी तरह से नहीं जाता है |















|| विदा का कोई समय नहीं है ||

कौन से प्रतीक, कौन से रंग
कौन सा समय
चुनती है विदा ?
अपनी विजड़ित आभा में स्थिर चट्टानें
दिन को डूबने से थामे हुए गिरिमालाएँ
अँधेरे में गाने की इच्छा-सा ठहरा हुआ सन्नाटा
वनस्पतियों में निर्बाध चमकती हरीतिमा
भोजन के बाद बचे-खुचे से सजी थाली
कुनकुने पानी से भरी छलछलाती बाल्टी
साँकल बंद करने को उठा हाथ
नींद कि नीरव निस्स्वप्न घाटी की गहरी चुप्पी
चिड़ियों को ख़बर लगाने के पहले का अर्द्धजागरण
- कौन कब अचानक
कह देगा
अलविदा ?

विदा
अपूर्णता से
किसलयों कुचाग्रों केलि से
शब्दार्थ मौन रूपकों से
गान धैर्य अजात पौत्र से
सगुण निराकार से
अँधेरी निर्जन सड़क पर सुबह के आदमी से
मसाला पीसती बार-बार झार से आंसू पोंछती औरत से
विदा
देवताओं के पाखण्ड और ब्रह्म-प्रपंच से
विदा ककहरे से
विदा अक्षरारम्भ और अधूरे वाक्य से
हुआ-होगा-होता से
हर सर्वनाम से
क्रियापदों के झुण्डों बवंडर खिड़की के काँच से
गिलहरियों की धूप और चिड़ियों के अवकाश से
विदा का कोई समय नहीं है
हर क्षण विदा है
जो बीतता है
विदा लेता है
अक्सर बिना जाने भी |

[ कुमार गन्धर्व के लिये लिखी अशोक वाजपेयी की इन कविताओं के साथ प्रकाशित चित्र युवा चित्रकार महुआ रॉय की पेंटिंग्स के हैं | ललित कला अकादमी की नई दिल्ली स्थित कलादीर्घा में अभी हाल ही में 'सोपान' शीर्षक के अंतर्गत आयोजित एक समूह प्रदर्शनी में महुआ रॉय के चित्रों ने दर्शकों व कला मर्मज्ञों का खास तौर से ध्यान खींचा तो शायद अपनी चित्र-भाषा की अप्रतिमता के कारण | महुआ रॉय ने जामिया मिलिया इस्लामिया से पहले बीएफए और फिर एमएफए किया है | इसके आलावा नेशनल म्युजियम से उन्होंने 'इंडियन ऑर्ट' में एक कोर्स भी किया है | महुआ ने स्कूलों, संस्थाओं व कार्पोरेट क्षेत्र के लिये एक आर्टिस्ट व डिज़ायनर के रूप में काम करने के साथ-साथ कई समूह प्रदर्शनियों में अपने चित्रों को प्रदर्शित किया है तथा आर्ट-कैम्प में भाग लिया है | ]

4 comments:

  1. देवेश शुक्लJuly 30, 2010 at 7:33 AM

    महुआ रॉय की पेंटिंग्स ने कुमार गन्धर्व पर लिखी इन कविताओं को एक नया आयाम दिया है | संगीत का एक नया सौंदर्यशास्त्र गढ़ने वाले कुमार गन्धर्व पर लिखी अशोक वाजपेई की इन कविताओं ने समकालीन कलाओं के विभिन्न माध्यमों के बीच गहरे संबंधों का एक उदाहरण प्रस्तुत किया है, जिसे महुआ रॉय की पेंटिंग्स ने और विस्तार देने का काम किया है |

    ReplyDelete
  2. लक्ष्मीनारायण सिन्हाJuly 30, 2010 at 5:11 PM

    अशोक वाजपेई की कविताओं ने और महुआ रॉय की पेंटिंग्स ने कुमार गन्धर्व की 'आवाज़' को प्रणति दी है | कुमार गन्धर्व की आवाज़ समय की आवाज़ है, पर उसमें समयातीत भी बोलता है | अशोक वाजपेई ने अपनी कविताओं तथा महुआ रॉय ने अपनी पेंटिंग्स के ज़रिये उसमें स्वर मिलाने का जो प्रयास किया है, वह प्रभावी है |

    ReplyDelete
  3. महुआ रॉय की पेंटिंग्स में व्यक्त हुई चित्र-भाषा का आपने उल्लेख्य किया है | मुझे भी लगता है की महुआ की चित्र-भाषा उनके द्वारा निर्मित की गई उनकी अपनी चित्र-भाषा है, जिसे उन्होंने संवेदना से जोड़ने का भरसक प्रयत्न किया है | संवेदनशील चित्र-भाषा उसके अतिरिक्त भी बहुत कुछ का अहसास करती है, कई बार सामान्य भाषा के माध्यम से जो प्रत्यक्ष दिखता है | संवेदना की विराटता कई बार चित्र-भाषा में भी अपने को प्रक्षेपित करने की अनजाने ही अकल्पनीय सामर्थ्य उत्पन्न कर देती है, जो महुआ रॉय की पेंटिंग्स के साथ भी हुआ है और जिस कारण - जैसा की आपने उल्लेख्य किया है - समूह प्रदर्शनी में के तमाम चित्रों के बीच दर्शकों/प्रेक्षकों का ध्यान उनकी पेंटिंग्स की तरफ खास तौर से गया |

    ReplyDelete
  4. अशोक वाजपेई की कविता और महुआ रॉय की पेंटिंग्स ने कुमार गन्धर्व की स्मृति को और सघन व मार्मिक बना दिया है | कोई भी प्रभावशाली रचना - वह कविता हो या पेंटिंग - हमें विस्मृति के सुविधाजनक भुलावे से उबारकर स्मृति के निर्मम व चुंधिआते आलोक में लाती है | अशोक वाजपेई की कविता और महुआ रॉय की पेंटिंग्स ने यह काम प्रभावी रूप में किया है |

    ReplyDelete